RRR में भीम का किरदार निभाने के लिए Jr NTR को जागना पड़ा था 65 रातें, खतरनाक जंगलों में लगानी पड़ी थी दौड़

Must Read

पुलकित कपूर
पुलकित कपूर
I am Pulkit Kapoor The best strategy maker for Herald Hindi

हाल ही में निर्देशक एसएस राजामौली की फिल्म आरआरआर रिलीज़ हुई है। इस फिल्म को दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है। रिलीज़ होते ही फिल्म ने बॉक्स ओफफ़ीके पर धमाल मचा दिया है और हर कोई इस फिल्म को पसंद भी कर रहा है। फिल्म में रामचरण और जूनियर एनटीआर लीड रोल में नज़र आ रहे हैं। फिल्म ने ताबड़तोड़ कमाई भी की है और कई नए रिकॉर्ड भी बना दिए हैं।

वहीं अब फिल्म से जुड़ी कई खास बातें भी सामने आ रही हैं जो वाकई हैरान करने वाली हैं। हाल ही में जूनियर एनटीआर ने भी अपने किरदार को लेकर कई बड़े खुलासे किए हैं जिन्हें जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। जूनियर एनटीआर ने खुद इस बारे में बताया है कि उनके लिए भीम का किरदार निभाना वाकई आसान नहीं था और इसके लिए उन्हें कड़ी मेहनत  करनी पड़ी।

एसएस राजामौली हमेशा बड़े बजट की फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। लेकिन खास बात ये है कि वे जो भी फिल्म बनाते हैं वे सुपरहिट ही साबित होती है। वहीं राजामौली फिल्मों के लिए स्टारकास्ट से मेहनत करवाने में भी पीछे नहीं हटते और हर किरदार को बखूबी सामने लेकर आते हैं। वहीं आरआरआर में भी रामचरण और जूनियर एनटीआर का किरदार काफी अहम था। जूनियर एनटीआर ने फिल्म में भीम का किरदार निभाया जिसके लिए राजामौली के साथ साथ जूनियर एनटीआर ने भी काफी मेहनत की।

इस बारे में खुद जूनियर एनटीआर ने ही एक इंटरव्यू के दौरान बताया था। उन्होंने बताया था कि भीम का किरदार उनके लिए काफी मुश्किल था और इसकेलिए उन्हें काफी मेहनत भी करनी पड़ी। जूनियर एनटीआर के मुताबिक एक सीन के लिए उन्हें 65 रातें भी कुर्बान करनी पड़ी थी। वहीं फिल्म में जूनियर एनटीआर शेर से भी लड़ाई करते नज़र आ रहे हैं जो काफी मुश्किल था। इसकेलिए वीएफ़एक्स का इस्तेमाल भी किया गया था।

बता दें कि फिल्म कीकाफी शूटिंग बुल्गेरिया के जंगलों में भी हुई है। ऐसे में जूनियर एनटीआर ने इन जंगलों में भी खूब दौड़ लगाई है। वे अपने किरदार के साथ अन्याय नहीं करना चाहते थे इसलिए उन्होंने भी खूब मेहनत की। अब उनकी मेहनत भी रंग लाई है। फिल्म ने 1000 करोड़ से ज्यादा की कमाई की है। वहीं हिन्दी वर्जन में भी फिल्म को खूब पसंद किया गया है।

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े