भारत का कीमती खज़ाना है पुष्पा फिल्म का लाल चन्दन , जानिए क्यों बिकता है इतना महंगा

Must Read

पुलकित कपूर
पुलकित कपूर
I am Pulkit Kapoor The best strategy maker for Herald Hindi

 New Delhi : हाल ही में अल्लू अर्जुन की फिल्म “पुष्पा” रिलीज़ हुई है। ये फिल्म सुपरहिट साबित हुई। इस फिल्म में अल्लू अर्जुन के साथ राश्मिका मंदाना भी नज़र आई हैं। फिल्म में अल्लू अर्जुन ने भी अपनी एक्टिंग से सभी का दिल जीत लिया है। हर कोई इस फिल्म को खूब पसंद कर रहा है। यदि अपने भी ये फिल्म देखी है तो आपको भी ये पता ही होगा कि इस फिल्म की कहानी भारत का लाल सोना यानि रक्त चन्दन पर ही आधारित है।

इस फिल्म में पूरी तरह से रक्त चन्दन की खासियत और उसकी तस्करी के बारे में बताया गया है। वहीं फिल्म में ये भी देखने को मिला है कि कैसे रक्त चन्दन आंध्रप्रदेश के जिलों में पाया जाता है और इस बिक्री भी करोड़ों रुपयों में होती है। आज भी भारत में यही समस्या बनी हुई है। आज भी भारत के लाल सोना की तस्करी की जाती है। आइए जानते हैं इस खबर को विस्तार से।

विलुप्त होने की कगार पर है रक्त चंदन

अल्लू अर्जुन की फिल्म पुष्पा सुपरहिट जा रही है। इस फिल्म में अल्लू अर्जुन की एक्टिंग और फिल्म के गानों ने दर्शकों को दीवाना बना दिया है। वहीं फिल्म का सेंटर पॉइंट भी रक्त चंदन ही है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे तस्कर रक्त चंदन की लकड़ियों को काटकर भारत से बाहर बेच देते हैं और करोड़ों रूपये की कमाई करते हैं। फिल्म में दिखाया है कि रक्त चंदन की तस्करी में नेता, बड़े कारोबारी और माफिया तक भी शामिल होते हैं।

लेकिन आपको बता दें कि रक्त चंदन को विलुप्त होने की श्रेणी में रख दिया गया है। अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ द्वारा ही रक्त चंदन को विलुप्त होने वाली प्रजाति की श्रेणी में रखा गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक रक्त चंदन अब पूर्वी घाटों में ही बचा हुआ है। 2018 में रक्त चंदन को इस श्रेणी में रखा गया था। रिपोर्ट्स के अनुसार रक्त चंदन की संख्या में पिछली तीन पीढ़ियों से 50-80% की गिरावट को भी दर्ज किया गया है।

इसे काफी ज्यादा मात्रा में काटा जाता है इसलिए अब रक्त चंदन सिर्फ पूरी दुनिया में मौजूद पेड़ों का 5% ही बचा हुआ है। वहीं पुष्पा फिल्म में जो दिखाया गया है वो काल्पनिक नहीं बल्कि आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु की सच्चाई ही है। चंदन की तस्करी को लेकर सबसे ज्यादा विख्यात नाम डाकू वीरप्पन का ही आता है। लेकिन उसके जाने के बाद भी ये समस्या आज भी बनी हुई है।

रक्त चंदन की खासियत

बता दें कि रक्त चंदन कई मायनों में खास है और विदेशों में भी इसकी ख़ासी मांग है। चंदन दो प्रकार का होता है एक सफ़ेद चंदन और लाल चंदन। लाल चंदन को ही रक्त चंदन के नाम से जाना जाता है। सफ़ेद चंदन को पूजा पाठ के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह के चंदन को वैष्णव समाज से उपयोग में लाता है। सफ़ेद चंदन में सुगंध भी होती है।

लेकिन रक्त चंदन को शैव और शाक्त संप्रदाय द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। रक्त चंदन कि लकड़ियाँ लाल रंग की होती हैं जो देखने में बेहद आकर्षक होती हैं। रक्त चंदन में सफ़ेद चंदन की तरह खुशबू नहीं होती हैं। वहीं वैज्ञानिक रक्त चंदन को टेराकॉर्पस संटलिनस के नाम से जानते हैं। इस लकड़ी का प्रयोग हवन और इत्र के लिए भी नहीं किया जाता है। इसके पेड़ की ऊंचाई 8-11 मीटर होती है। ये आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु के जिलों में पाया जाता है।

रक्त चंदन का प्रयोग वाइन इंडस्ट्री और सौंदर्य प्रसाधन की वस्तुओं को बनाने में किया जाता है। रक्त चंदन बाज़ारों में करोड़ों की कीमत से बिकता है। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार की बात करें तो वहाँ रक्त चंदन 3 हज़ार रूपये प्रति किलो के हिसाब से बिकता है। ये इसके शुरुआती दाम होते हैं। भारत में रक्त चंदन को काटना और इसकी तस्करी करना प्रतिबंधित है।

विदेशों में भी भारी मांग

आज भी रक्त चंदन की अवैध तरीके से तस्करी की जाती है। इस अवैध गतिविधि को रोकने के लिए रेड सैंडलर्स एंटी स्मगलिंग टास्क फोर्स का भी गठन किया गया था जिसने 2021 में करीब 508 करोड़ की लकड़ियों को जब्त भी किया था। वहीं इस फोर्स के मुताबिक पिछले एक साल में ही इससे जुड़े 117 मामलों को दर्ज किया गया है और 342 तस्करों को गिरफ्तार भी किया गया है। इसके लिए फोर्स को सैटेलाइट फोन्स भी दिए गए हैं ताकि जंगलों में संचार व्यवस्था बाधित न हो।

जानकारी के मुताबिक रक्त चंदन के पेड़ धीरे धीरे विकसित होते हैं इसलिए इसकी लड़कियों का घनत्व भी काफी ज्यादा होता है। ये पानी में भी काफी तेजी से डूब जाता है। विदेशों में भी रक्त चंदन की भारी डिमांड है। सिंगापुर, चीन, ऑस्ट्रेलिया, जापान और यूएई में भी इस लकड़ी की मांग है। माना जाता है कि जब चीन में मिग राजवंश का शासन था तब वहाँ के लोग भी इस लकड़ी को खूब पसंद करते थे।

14वीं से 17वीं शताब्दी के बीच रक्त चंदन से बने फर्नीचर को भी खूब इस्तेमाल किया जाता था। आज भी चीन के रक्त चंदन संग्रहालय में इस लकड़ी से बनी कलाकृतियाँ भी रखी हुई हैं। वहीं जापान में तो उपहार के तौर पर भी रक्त चंदन का इस्तेमाल किया जाता था।

फिल्म में हुआ है नकली लकड़ियों का इस्तेमाल

रक्त चंदन को भारत का लाल सोना के नाम से भी जाना जाता है। इसी लाल सोने के कारण कई बार दक्षिण भारत में हिंसा भी देखने को मिली है। इस लकड़ी की तस्करी पर 11 साल की जेल भी हो सकती है। वहीं 2015 में इस मामले में एंकाउंटर भी हुआ था जिसमें 20 लोग मारे गए थे।

वहीं आपको ये भी बता दें कि फिल्म पुष्पा में रक्त चंदन की नकली लकड़ियों का इस्तेमाल हुआ है। फिल्म में दिखने वाली लकड़ियों को फ़ोम और फाइबर से बनाया गया है। इसके लिए कई दिनों तक जंगलों में भी शूटिंग की गई है। एक बार तो पुलिस भी इन लकड़ियों को देखकर हैरान हो गई थी। ऐसे में पुलिस ने पूरी जांच के बाद ही टीम को जाने दिया था। टीम नकली लकड़ियों को ही जंगल में ले जाकर शूटिंग करती थी। इन लकड़ियों के लिए फिल्म के आर्ट विभाग ने फैक्ट्री ही बना दी थी।

- Advertisement -spot_img

Latest News

इन खास वेब सिरीज़ का बेसब्री से हो रहा है इंतज़ार, इंडिया की टॉप वेब सिरीज़ में शामिल है इनका नाम

ओटीटी पर इस समय कई वेब सीरिज़ को रिलीज़ किया जा रहा है। इनमें से कुछ वेब सिरीज़ ऐसी...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े