रंग लाई पति की मेहनत, हरियाणा की सुमन ने नेशनल पैरा पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप में जीता मैडल

Must Read

राजकुमार मित्तल
राजकुमार मित्तलhttps://heraldhindi.com/
I am The Best Employee of City Mail Publications and I am Also a Co Founder of this website Herald Hindi because I Advice company to start a separate Section For entertainment news

पानीपत : कहते हैं कि यदि मुश्किल समय में कोई ऐसा साथ मिल जाए जो हर कदम पर हमारा साथ दे तो राहें और भी ज्यादा आसान हो जाती हैं। आज भी कुछ लोग मानते हैं कि एक पति अपनी पत्नी का साथ नहीं देता ये हो भी सकता है लेकिन वहीं कुछ ऐसे पति भी होते हैं जो अपनी पत्नी की सफलता को अपनी सफलता समझते हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपने पति के साथ से एक सर्वोच्च शिखर को हासिल किया है।

महिला का नाम सुमन देवी जो हरियाणा के पानीपत इसकी रहने वाली हैं। हाल ही में कोलकाता में नेशनल पैरा पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप 2022 को आयोजित किया गया था इसमें सुमन ने ब्रोंज मेडल को हासिल किया है। अब सुमन ने भी अपनी सफलता का श्रेय अपने पति को दिया है। उनके पूरे परिवार में भी खुशी का माहौल है।

पति का सपना कर रही हैं पूरा

जिंदगी में मुश्किलें कई होती हैं लेकिन इन मुश्किलों से हार न मानने वाला ही अपनी जिंदगी में आगे बढ़ पाता है। आज कहानी एक ऐसी ही महिला की जो सभी के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं। ये महिला कोई और नहीं बल्कि हरियाणा के पानीपत की रहने वाली सुमन देवी हैं जिन्होंने हाल ही में पैरा पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप में ब्रोंज मेडल को हासिल किया है। अब ऐसे में हर कोई उन्हें उनकी सफलता के लिए बधाई भी दे रहा है।

सुमन ने अपनी कामयाबी से पूरे हरियाणा का नाम भी रोशन कर दिया है। सुमन भी अपनी इस सफलता से बेहद खुश हैं और अपनी सफलता का श्रेय अपने पति प्रदीप प्रजापति को देती हैं। जानकारी के अनुसार सुमन के पति प्रदीप भी नेशनल लेवल पर खेलना चाहते थे लेकिन ऐसा नहीं हो पाया अब ऐसे में उनकी पत्नी ही उनके सपनों को पूरा करने का प्रयास कर रही है। सुमन के पति भी वेट लिफ्टिंग के खिलाड़ी रह चुके हैं। 2005 में ही सुमन और प्रदीप की एक दूसरे से शादी हुई थी।

पति के साथ से तय किया सफलता का रास्ता बता दें कि सुमन एक पैर से पोलियो से पीड़ित हैं। 2015 में सुमन ने शौक के लिए नेशनल लेवल पर वॉलीबॉल प्रतियोगिता में भी हिस्सा लिया था। लेकिन इस खेल में उन्हें सफलता नहीं मिल पाई। ऐसे में सुमन के पति ने ही उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। सुमन के पति ही उन्हें रोजाना सुबह शाम डेढ़ डेढ़ घंटे का प्रशिक्षण भी देते हैं। इसके बाद ही सुमन ने पहले राज्य स्तर की प्रतियोगिता में जगह बनाई और उसके बाद अब नेशनल लेवल पर परचम लहरा दिया है।

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े