दिल्ली हरियाणा के रास्ते दौड़ेगी बुलेट ट्रेन, 12 की बजाय 3 घंटे का होगा सफर

Must Read

हिमेश ठाकुर
हिमेश ठाकुर
My Profession is a god for me. I Love to Write entertainment news.

नई दिल्ली: आने वाले कुछ सालों के भीतर देश का यातायात साधन बेहद ही सुगम और सुलभ हो जाएगा। देश में जहां लाखों करोड़ रुपए से रोड नेटवर्क तैयार किया जा रहा है, वहीं बुलेट ट्रेन को लेकर भी सरकार पूरी तरह से गंभीर दिखाई दे रही है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का मानना है कि देश में रोड नेटवर्क ठीक विदेशों जैसा होना चाहिए। फर्राटे से वाहन सुरक्षित और बेहतरीन यात्रा कर सकें। जैसे विदेशों में लोग अपने वाहन चलाते है, ठीक अपने देश में भी ऐसा ही होना चाहिए। इसके लिए उनका मंत्रालय दिल्ली से लेकर हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र में तमाम सडक़ परियोजना पर काम कर रहा है।

बुलेट ट्रेन की डीपीआर तैयार

वहीं दूसरी ओर नितिन गडकरी के मंत्रालय की तर्ज पर रेलवे विभाग भी भारत की राजधानी दिल्ली से देश के कई राज्यों को बुलेट ट्रेन से जोडऩे की योजना पर काम कर रहा है। गुजरात में तो इस पर काम भी चल रहा है, इसी तरह से दिल्ली व हरियाणा से होते हुए आगरा, अध्योध्या, वाराणसी व लखनऊ को भी बुलेट ट्रेन से जोडऩे को लेकर डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाई जा चुकी है। बता दें कि किसी भी परियोजना पर काम शुरू करने से पहले सबसे महत्वपूर्ण और शुरूआती कार्य डीपीआर बनाना होता है। डीपीआर के तैयार होते ही परियोजना पर काम शुरू होने में आसानी रहती है। यदि केंद्र सरकार की मानें तो दिल्ली, हरियाणा से होते हुए आगरा, अयोध्या, वाराणसी व लखनऊ के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की परियोजना पर काम तेज गति से किया जा रहा है।

प्रॉजेक्ट 958 किलोमीटर लंबा होगा

राजधानी दिल्ली से वाराणसी के लिए हाई स्पीड ट्रेन या बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट 958 किलोमीटर लंबा होगा, जिसमें लखनऊ से अयोध्या का 123 किलोमीटर का रूट भी शामिल रहेगा। डिटेल्ड प्रॉजेक्ट रिपोर्ट (DPR) के मुताबिक इसमें दिल्ली से आगरा के बीच 300 किलोमीटर प्रतिघंटे की स्पीड से बुलेट ट्रेन भी दौड़ेगी।

दिल्ली से वाराणसी के बीच में 12 स्टेशन होंगे

सरकार की योजना के मुताबिक 2029-30 तक दिल्ली से आगरा और आगरा से दिल्ली के बीच हर घंटे 300 किलोमीटर प्रतिघंटे की स्पीड से बुलेट ट्रेन गुजरेगी। दिल्ली से वाराणसी कॉरिडोर के बीच में 12 स्टेशन होंगे। इसमें मथुरा, अयोध्या, प्रयागराज, वाराणसी जैसी धार्मिक जगहें भी होंगी। इसमें जेवर में एक अंडरग्राउंड स्टेशन भी होगा। इस पूरे प्रॉजेक्ट की कीमत 2 लाख 28 हजार करोड़ रुपए होंगी।

3 घंटे कम लगेगा समय

नैशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NHRSCL) की तरफ से जारी डीपीआर के मुताबिक दिल्ली से आगरा के बीच बुलेट ट्रेन एक दिन में 63 ट्रिप पूरी करेगी। दिल्ली से लखनऊ के बीच 43 ट्रिप, दिल्ली से वाराणसी के बीच 18 ट्रिप। वहीं अयोध्या के लिए हर दिन 11 ट्रिप की योजना है। फिलहाल दिल्ली से वाराणसी के बीच 11 से 12 घंटे का समय लगता है। बुलेट ट्रेन के आने से यह समय 3 घंटे कम लगेगा। केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से वाराणसी और अयोध्या में विश्व स्तरीय इंफ्रास्ट्र्क्चर के जरिए पूर्वांचल को विकसित करने की योजना तैयार कर रही है।

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े