नील कमल फिल्म का ये गाना गाते हुए रोने लगे थे मोहम्मद रफी, आप भी नहीं रोक पाएंगे आँसू

Must Read

पुलकित कपूर
पुलकित कपूर
I am Pulkit Kapoor The best strategy maker for Herald Hindi

बॉलीवुड में अब तक ऐसी कई फिल्मों को बनाया गया है जिन्हें भूल पाना हर किसी के लिए मुश्किल है। वहीं कई फिल्मों के गाने तो आज भी दर्शको की जुबान पर रहते हैं। शादी ब्याह भी इन गानों के बिना अधूरे ही माने जाते हैं। ऐसे ही एक खास गाने के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

ये गाना आज भी शादी ब्याहों में खूब बजाया जाता है। इस गाने को मोहम्मद रफी ने गाया था और इस गाने को गाते हुए मोहम्मद रफी भी रोने लगे थे। सिर्फ रफी ही नहीं आज जो भी इस गाने को सुनता है वे अपने आँसू रोक ही नहीं पाता है। आइए जानते हैं

1968 में फिल्म आई थी जिसका नाम नील कमल था। फिल्म को राम महेश्वरी द्वारा डायरेक्ट किया गया था और इस फिल्म ने वाकई कमल कर दिया जिसे खूब पसंद भी किया गया। इस फिल्म में वहीदा रहमान, मनोज कुमार और राज कुमार जैसे कई बड़े कलाकार नज़र आए थे। फिल्म में एक गाना था “बाबुल की दुआएं लेती जा जहां तुझको सुखी संसार मिले”

इस गाने को आज भी बेटी की बिदाई के मौके पर बजाया जाता है। फिल्म में इस गाने को बलराज साहनी और वहीदा रहमान पर फिल्माया गया था जिसमें दोनों ने बाप बेटी का रोल निभाया है। इस गाने को मोहम्मद रफी ने गाया था। गाने के बोल भी ऐसे हैं जो सच्चाई को बताते हैं। बताया जाता है कि इस गाने को गाते हु मोहम्मद रफी भी रोने लगे थे।

गाते समय मोहम्मद रफी का गला भी भर गया था लेकिन उन्होंने गाना नहीं रोका लेकिन आखिर में आते आते तो मोहम्मद रफी खुद को संभाल ही नहीं पाए। आज भी ये गाना जब उन माता पिता के कानों में पड़ता है जिन्होंने अपनी बेटियों को विदा किया है तो वे भी आँसू नहीं रोक पाते हैं।

- Advertisement -spot_img

Latest News

शाहरुख की यह 6 फिल्में ब्लॉकबस्टर होने की थी हकदार, लेकिन सिनेमाघरों में बुरी तरह हुई फ्लॉप

शाहरुख खान इस समय अपनी फिल्म पठान को लेकर काफी सुर्खियों में है। 25 जनवरी को रिलीज हुई इस...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े