हरियाणा में अब काफी संख्या में लगेंगे शराब के कारखाने, लाखों लोगों को मिलेंगी नौकरियां

Must Read

डी पांडेय
डी पांडेयhttp://Heraldhindi.com
I keep my eyes wide open and observe everything minute. I strive for development and I live for Content Writting.

चंडीगढ़: दिल्ली के बाद अब हरियाणा ने भी अपनी आबकारी पॉलिसी में जबरदस्त बदलाव करते हुए शराब के रेटों में बेहताशा कमी कर दी है। इस पॉलिसी के लागू होते ही अब हरियाणा के लोगों को शराब खरीदने के लिए दिल्ली की दौड़ लगाने की जरूरत नहीं होगी। दावा किया जा रहा है कि हरियाणा की इस नई योजना के बाद प्रदेश की शराब और बीयर दिल्ली से भी सस्ती हो जाएगी। बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली सरकार ने अपनी आबकारी नीतियों में बदलाव करते हुए शराब और बीयर इतनी सस्ती कर दी कि लोगों को एक बोतल खरीदने के साथ दूसरी बोतल फ्री दी जाने लगी थी। इसका नुक्सान यह हुआ कि दिल्ली के साथ लगते हरियाणा के शहरों में शराब की बिक्री जोरदार तरीके से कम हो गई। यही नहीं बल्कि हरियाणा के अलावा दिल्ली के साथ लगते एनसीआर के बाकि शहरों में भी इसका असर देखने को मिला।

सरकार ने लागू की नई नीति

इसे देखते हुए हरियाणा के शराब कारोबारियों ने अपनी परेशानी से सरकार को अवगत करवाया। जिसके बाद हरियाणा के आबकारी विभाग ने तत्काल रूप से नई योजना तैयार की और वैट सहित कई  टैक्स कम करते हुए शराब के रेटों में कटौती कर दी। इसके अलावा हरियाणा में शराब की फैक्ट्री लगाने पर भी बड़ी छूट लागू कर दी गई।पहले शराब की फैक्ट्री लगाने पर हरियाणा में 15 लाख रुपए की लाईसेंस फीस चुकानी पड़ती थी, अब यह राशि महज एक लाख रुपए कर दी गई है। इसके अलावा इसके नवीनीकरण के लिए तिमाई की बजाए वार्षिक आधार पर स्वीकृति प्रदान कर दी गई है।

लगेंगे नए शराब कारखाने

इससे हरियाणा सरकार को यह लाभ होगा कि जहां अधिक से अधिक लोग प्रदेश में शराब  के कारखाने लगाने के लिए सामने आएंगे, वहीं इससे ना केवल लाखों लोगों को नौकरियां मिलेंगी बल्कि रोजगार की स्थिति में भी काफी मजबूती आएगी । इसके अलावा सस्ती शराब खरीदने के लिए प्रदेश के लोग दिल्ली जाने से बचेंगे। उन्हें अब अपने प्रदेश में ही सस्ती शराब उपलब्ध हो

- Advertisement -spot_img

Latest News

हरियाणा में ट्रैफिक नियम हुए सख्त, नियम तोड़ने पर हमेशा के लिए रद्द होगा लाइसेंस और परमिट

Delhi: हरियाणा में यातायात नियमों का सख्ती से पालन कराने पर ज़ोर दिया जा रहा है। इसके लिए हरियाणा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े