KGF 2 के हीरो यश का बॉडीगार्ड बन गया सुपरस्टार, विलेन का धमाकेदार रोल निभाकर रामचंद्र ने दिखाया अपना जलवा

Must Read

हिमेश ठाकुर
हिमेश ठाकुर
My Profession is a god for me. I Love to Write entertainment news.

हम जानते हैं कि इस दौरान साउथ फिल्म इंडस्ट्री कई सुपरहिट फिल्में दे रही हैं। साउथ कि फिल्मों के आगे बॉलीवुड की फिल्में भी अब फीकी पड़ गई हैं। कई फिल्में बॉक्स ऑफिस के साथ साथ ग्लोबल स्टेज पर भी तहलका मचा चुकी हैं। ऐसे में 2018 में भी केजीएफ़ चैप्टर वन एक फिल्म आई थी जिसे दर्शकों ने खूब पसंद किया था। फिल्म में यश मुख्य किरदार में नज़र आए थे।

 

फिल्म ने ताबड़तोड़ कमाई भी की थी और ग्लोबल स्तर पर भी इसे काफी पसंद किया गया था। इस फिल्म में रामचंद्र राजू विलेन के किरदार में नज़र आए थे। लेकिन आपको बता दें कि फिल्म में आने से पहले रामचंद्र कई सालों तक यश के बॉडीगार्ड के तौर पर नौकरी कर चुके हैं। लेकिन अब वे फिल्मी दुनिया में एंट्री कर चुके हैं और दर्शकों ने भी उन्हें खूब पसंद किया है।

केजीएफ़ चैप्टर वन हर किसी को इतना पसंद आया कि अब इस फिल्म का सिक्वेल भी आने वाला है। दर्शकों को भी इस फिल्म का बेसब्री से इंतज़ार हो रहा है। फिल्म में यश के साथ साथ कई बड़े स्टार्स ने भी काम किया था। यदि आपने फिल्म देखी तो आप केजीएफ़ गोल्ड माइन के मालिक सूर्यवर्धन के बड़े बेटे गरुड़ा को तो जानते ही होंगे। गरुड़ा का किरदार रामचंद्र राजू ने ही निभाया था। ये रामचंद्र राजू की भी पहली ही फिल्म थी।

लेकिन रामचंद्र ने अपनी एक्टिंग का ऐसा जलवा बिखेरा कि अब उन्हें कई अन्य फिल्में भी ऑफर हो रही हैं। लेकिन आपको बता दें कि फिल्म में आने से पहले रामचंद्र यश के ही बॉडीगार्ड के तौर पर नौकरी किया करते थे। यश और रामचंद्र भी दोनों साथ में काम करने को लेकर कई बार बात कर चुके थे लेकिन केजीएफ़ में उन्हें साथ काम करने का मौका मिला।

बताया जाता है कि केजीएफ़ के फिल्म निर्देशक प्रशांत नील यश से फिल्म को लेकर डिस्कशन कर रहे थे तभी उन्होंने रामचंद्र राजू को देखा था। ऐसे में प्रशांत ने ही उन्हें गरुड़ा के रोल के लिए ऑडिशन देने के लिए कहा। हालांकि इसके लिए रामचंद्र को अपनी बॉडी में भी कई बदलाव करने पड़े और साथ ही फिल्म से जुड़ी कई वर्कशॉप भी अटेण्ड करनी पड़ी थी। इसके बाद ही प्रशांत ने उन्हें अपनी फिल्म के लिए फाइनल कर लिया था

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े