पैदा होने पर मना शौक, पति की पाबंदियों ने तबाह की जिंदगी, अंतिम समय में दवाई की जगह दारू पीती थी मीना कुमारी

Must Read

पुलकित कपूर
पुलकित कपूर
I am Pulkit Kapoor The best strategy maker for Herald Hindi

New Delhi: बॉलीवुड में मीना कुमारी एक जानी मानी अभिनेत्री के तौर पर जानी जाती थी। कई फिल्मों में काम कर मीना ने दर्शकों का दिल जीता है। वहीं मीना कुमारी की खूबसूरती भी हर किसी का दिल ले बैठती थी। लेकिन मीना की जिंदगी में कुछ भी आसान नहीं था। बेशक फिल्मी दुनिया में उनके पास शौहरत की कमी नहीं थी लेकिन असल जिंदगी में मीना दुखों से घिरी हुई थी।

बताया जाता है कि मीना को आखिरी समय तक कभी सच्चा प्यार नहीं मिला जो उन्हें समझ सके। इतना ही नहीं माना तो ये भी जाता है कि मीना के पति की पाबंदियों ने ही उनकी जिंदगी को तबाह कर दिया था। अपनी जिंदगी के आखिरी लम्हों में भी मीना शराबी बन गई थी जो दवाई की जगह भी सिर्फ दारू झी पीती थी।

मीना के पैदा होने से नाखुश थे उनके पिता

मीना का जन्म 1 अगस्त को मुंबई में हुआ था। उनका असली नाम महज़बी बानो था। खबरों की माने तो मीना के जन्म से उनके पिता बिल्कुल भी खुश नहीं थे क्यूंकि उन्हें बेटा चाहिए था। ऐसे में मीना के पैदा होने पर उनके घर में खुशियां नहीं मनाई गई थी। बताया जाता है कि मीना को एक्टिंग का शौक नहीं था लेकिन परिवार में आर्थिक तंगियों के कारण ही उन्होंने इस क्षेत्र में काम करना शुरू किया और अपनी अलग पहचान बनाई। 1939 में लेदरफेस से ही मीना ने अपनी करियर की शुरुआत की और सफलता को हासिल किया।

पति की बन्दिशों ने तबाह की जिंदगी

जानकारी के मुताबिक मीना की शादीशुदा जिंदगी भी अच्छी नहीं थी। उनकी शादी महज 19 साल में खुद से 15 साला बड़े कमाल अमरोही से कर दी गई थी। बताया जाता है कि कमाल ने मीना के ऊपर कई पाबंदियाँ लगा रखी थी। मीना के मेकअप रूम में कोई पुरुष भी नहीं जा सकता था। ऐसे में इन पाबंदियों से मीना भी काफी परेशान हो गई थी। वहीं इस बीच ही उन्हें धर्मेन्द्र से प्यार हुआ लेकिन रिश्ता नहीं चल पाया।

ऐसे में धर्मेन्द्र से रिश्ता टूटने के बाद ही मीना ने शराब पीना शुरू कर दिया। खबरों के मुताबिक हालत ऐसी हो गई थी कि मीना दवाई की जगह दारू ही पीने लगी थी। इसके चलते उन्हें लीवर सिरोसिस भी हो गया था। 31 मार्च 1972 को मीना ने दुनिया को अलविदा कह दिया। आज भी लोग उन्हें ट्रेजडी क्वीन के नाम से जानते हैं।

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े