अमिताभ बच्चन के पास रहने के लिए नहीं था घर, सड़कों के बेंचों और बड़े-बड़े चूहों के बीच गुजारी रातें

Must Read

New Delhi: सदी के महानायक अमिताभ आज किसी पहचान के मौहताज नहीं हैं। अमिताभ बच्चन ने फिल्म की दुनिया में लाखों करोड़ों दर्शकों के बीच अपनी एक अलग पहचान बनाई है। वहीं हाल ही में अमिताभ की फिल्म झुंड भी रिलीज़ हुई है जो चर्चा का विषय बन गई है। दर्शक भी इस फिल्म को पसंद कर रहे हैं।

लेकिन इस मुकाम तक पहुँचने के लिए अमिताभ बच्चन ने काफी मेहनत की है। एक समय था जब अमिताभ के पास रहने के लिए घर भी नहीं था और उन्हें सड़क पर बेंच पर सोकर ही कई रातें गुजारनी पड़ी थी। लेकिन आज अमिताभ बच्चन की एक अलग पहचान बन चुकी है। पूरी इंडस्ट्री में भी अमिताभ को सम्मान दिया जाता है।

महीने के 50 रूपये कमाते थे अमिताभ बच्चन 

आज अमिताभ के पास किसी भी चीज़ की कोई कमी नहीं है। अमिताभ के पास आज पैसों के साथ साथ खूब पहचान भी है। लेकिन आज से करीब 23 साल पहले उनके हालात अच्छे नहीं थे। दरअसल उनकी कंपनी एबीसीएल पूरी तरह से कर्ज में डूब गई थी। जिससे अमिताभ की आर्थिक स्थिति भी काफी खराब हो गई थी। 1999 में ही एक इंटरव्यू के दौरान अमिताभ ने अपने इस समय के बारे में सभी को बताया था। अमिताभ ने बताया था कि उन्हें शुरुआत में कई विज्ञापन मिले थे लेकिन उन्होंने इन्हें करने से मना कर दिया था।

अमिताभ के मुताबिक उन्हें कई जगह से विज्ञापनों के लिए अप्रोच किया जा रहा था जिसके लिए उन्हें 10 हज़ार रुपये भी मिल रहे थे लेकिन अमिताभ ने इसके लिए मना कर दिया था। दरअसल अमिताभ उस समय रेडियो स्पोट्स के जरिये महीने के 50 रूपये कमाते थे लेकिन उन्हें डर था कि विज्ञापन में काम करके उनसे कुछ छिन न जाए इसलिए उन्होंने इन्हें ठुकरा दिया।

सड़कों के बेंचों पर सोकर गुजारी रातें

इस दौरान अमिताभ ने बताया था कि ये वो समय था जब उनके पास रहने के लिए घर भी नहीं था। कुछ समय तक वे अपने दोस्तों के घर में रहे लेकिन फिर उन्होंने मरीन ड्राइव के बेंच पर ही सोना शुरू कर दिया। जहां अमिताभ ने अपनी जिंदगी के बड़े बड़े चूहों को देखा था। वहीं अमिताभ ने कहा था कि यदि वे एक्टर नहीं होते तो आज वे कैब ड्राइवर की तरह ही काम कर रहे होते।

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े