बेटे बप्पा को पिता बप्पी लहरी के कारण स्कूल में झेलनी पड़ी थी शर्मिंदगी, पिता के जाने के बाद बताया राज

Must Read

पुलकित कपूर
पुलकित कपूर
I am Pulkit Kapoor The best strategy maker for Herald Hindi

भारत के मशहूर सिंगर बप्पी लहरी अब इस दुनिया में नहीं हैं। बप्पी लहरी ने भारत में डिस्को को एक अलग मुकाम पर पहुंचाया है। आज भी उनके गाये गानों के बिना कोई भी पार्टी अधूरी ही होती है। लेकिन पिछले महीने यानि 15 फरवरी को बप्पी लहरी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। ऐसे में पूरा देश उन्हें याद कर रहा है।
बप्पी लहरी का परिवार भी उनके निधन से बेहद दुखी है। लेकिन वहीं अब उनके बेटे ने बप्पी लहरी से जुड़ी कुछ खास बातों को मीडिया के साथ साझा किया है।इस दौरान बप्पी लहरी के बेटे बप्पा लहरी ने बताया कि उन्हें स्कूल में उनके पिता के कारण परेशान किया जाता था। वो समय बप्पा के लिए काफी मुश्किल था। आइए जानते हैं इस खबर को विस्तार से।

बप्पी लहरी के कारण बेटे को हुई थी परेशानी

हम जानते हैं कि बप्पी लहरी को उनके यूनिक स्टाइल के लिए जाना जाता था। वे हमेशा सनग्लासेस भी लगाकर रखा करते थे और साथ ही उन्हें गोल्ड पहनने का भी बेहद शौक था। उनके इस यूनिक स्टाइल का कारण हर कोई जानना चाहता था। ऐसे में बप्पी लहरी के यूनिक स्टाइल के कारण ही उनके बेटे को भी स्कूल के दौरान कई मुश्किलें आई थी। इस बात के बारे में बप्पा लहरी ने टाइम ऑफ इंडिया को इंटरव्यू देते हुए बताया था।

इस दौरान बप्पा ने कहा था कि उन्हें स्कूल में इस बात के लिए परेशान किया जाता था कि उनके पिता सनग्लासेस क्यूं पहनते हैं। स्कूल का हर बच्चा उनसे यही सवाल किया करता था। बप्पा के मुताबिक उनके लिए ये काफी मुश्किल समय था लेकिन ऐसे में भी बप्पी लहरी ने अपने स्टाइल को नहीं बदला और उन्हें जो अच्छा लगा उन्होंने वही किया।

हमेशा बेबाकी से जी अपनी जिंदगी

हम जानते हैं कि बप्पी लहरी ने हमेशा अपनी जिंदगी को बेबाकी से ही जिया है। वहीं उन्होंने अपने हुनर के कारण ही लोगों के दिलों में अलग जगह बनाई। निधन से पहले करीब एक महीने से बप्पी लहरी अस्पताल में ही थे लेकिन अचानक से उनकी तबीयत बिगड़ गई जिसके बाद उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। इस बाद परिवार ने उनक विधि विधान से अंतिम संस्कार किया। बेशक आज बप्पी लहरी हमारे बीच नहीं हैं लेकिन हमारे दिलों में वे हमेशा रहेंगे

- Advertisement -spot_img

Latest News

बच्चों के लिए वरदान है बिना कैश काउंटर वाला अस्पताल, मुफ्त होता है बच्चों के दिल का इलाज

Delhi: हम जानते हैं कि आज भी ऐसे कई बच्चे हैं जो दिल की बीमारी के साथ ही पैदा...
- Advertisement -spot_img

और भी पढ़े